The strict and difficult parents….!

The relationship between parents and children is forever evolving. Through each stage the roles, responsibilities and expectations differ. The same parents who are perfect superheroes in the toddler phase of a child go through a critical evaluation through the eyes of the children as they grown up and there comes a phase when the children feel that all that the parents do is nag, teach, … Continue reading The strict and difficult parents….!

🌟 जगमगाती दिवाली 🌟

जगमगाया था माहौल, रंगीन था बाज़ार, उम्मीद भरी मुस्कान चेहरे पर, दिमाग़ बुन रहा था सवाल हज़ार, सोचे अम्मा आज दिन कैसा जाएगा, दिये जो सारे बिक जाए कुछ पैसा घर आजाएगा । पहले ही करोना ने मुश्किल कर दिया था आधा साल, जैसे-तैसे चला रही थी अम्मा अपना कारोबार । कोई मैडमजी फ़रिश्ता बन आए, जो दिये ख़रीद ले जाए, रौशन कर अपने घर … Continue reading 🌟 जगमगाती दिवाली 🌟

मेरी विदाई

सात फेरे लेकर, मुझे कन्यादान में देकर, बेटी से बहूँ बनते ही मेरी विदाई हो गई, जिनकी थी मैं राज दुलारी, प्यारी बिटिया, लाड़ों रानी, बनके उन्हीं की आँखों का पानी क्षणभर में देखो मैं पराई हो गई ! पापा कहते थे मैं हूँ प्यारी गुड़िया आँगन की चूँ-चूँ करती चिड़िया, उनके जीवन का मैं हूँ अभिमान, मुझमें ही बस्ती है उनकी जान । माँ … Continue reading मेरी विदाई

ख़्याल

जो ख़ुशी दे तुम्हें वो ख़्याल अच्छा है, बशर्ते दिल ना दुखे किसी का तो ख़्याल सच्चा है । ज़रूरी नहीं के आसमान को छूती लंबी इमारत ही हो, जो सुकून दे दिल को तुम्हारे तो दो कमरों का मकान अच्छा है । संरचना कि अहमियत फिर क्या ही है जनाब जो प्यार भरा हो हर वो आशिया बढ़िया है । साथ अनगिनत वर्षों का … Continue reading ख़्याल