Self Respect

It’s been too many years of saying “I’m okay !” when in reality I am just not, I spent a life woven around you and yet about me you rarely thought ! Whose fault it is I say, point fingers at whom, hold accountable for this day? Is it destiny or fate, bad timing or inauspicious date? or some stars miles away mysteriously casting spells … Continue reading Self Respect

From A Life Partner To A Better Half

When I was newly married, I wondered why call one’s life partner the ‘better half’ ? I mean right in the beginning of the relationship why would one agree that the other is better than himself/herself?? Life partner is the appropriate term but better half? I think that’s a title one has to earn, isn’t it? In their married life a couple goes through various … Continue reading From A Life Partner To A Better Half

TERE CHALE JAANE SE …

तेरे चले जाने से…. बच्चे अपने घर बसे , माता-पिता भी चल बसें, भाई-बहन पीछे छूटें, किसे मनाऊँ अकेले में अब, कौन भला मुझसे रूठे । सूनापन दिल में है मेरे, रहने को यह ख़ाली मकान, बस यादों से भरी संग चार दिवारें , तस्वीरों से भरा एक संदूक रखा। सब एक-एक करके चले गए, जीवन में अपनी दिशा चुने, बिछड़ने का ग़म उनसे दिल … Continue reading TERE CHALE JAANE SE …

जीवन क्या है?

माँ के आँचल में पनपने से माँ के आँचल को तरसने का सफ़र, ख़ुद माँ के आँचल को तरसके भी अपने बच्चों का आँचल बनने की एक अनोखी डगर। पापा को हीरो समझने से पापा को बातें समझाने का सफ़र, और स्मरण में पापा की यादें बसाए अपने बच्चों का हीरो बनने की अनुभवी डगर । मन के किसी कोने में बचपन को संजोए हुए … Continue reading जीवन क्या है?